एग्रोनॉमी में करियर कैसे बनाएँ (How to make a Career in Agronomy)


How to make a Career in Agronomy. Agronomy kya hai. Agronomy kyu jaruri hai. iska Course kya hai. isme admission kaise milta hai or iska main Institute konsa hai, puri jankari hindi me.

एग्रोनॉमी में करियर कैसे बनाएँ. एग्रोनॉमी क्या है. एग्रोनॉमी क्यों जरूरी है. इसका कोर्स क्या है. इसमें  एडमिशन कैसे मिलता है, और इसका प्रमुख संस्थान कौनसा है, पूरी जानकारी हिंदी में.

How to make a Career in Agronomy
नमस्तें दोस्तों कैसे हैं आप, आज मैं आपको बताऊँगी कि एग्रोनॉमी क्या है (What is Agronomy), तथा एग्रोनॉमी में करियर  कैसे बनाएं (How to make a Career in Agronomy). तो आइए आगे जानते है, इस बारे में.

कोरोना महामारी ने पूरे विश्व में सरकारों के सामने खाद्यान उत्पादन से लेकर विभिन्न क्षेत्रों में आत्मनिर्भर बनने की नयी चुनौती पेश की है. इस महामारी  ने दुनिया को बताया है कि किसी भी स्थिति का सामना करने के लिए आत्मनिर्भरता कितनी जरूरी है.

भारत आज कृषि उत्पादन के मामले में आत्मनिर्भर है, जो कि 70 के दशक में हुई हरित क्रांति की देन है. लेकिन पिछले कुछ दशकों से कृषि विकास की रफ्तार थम-सी गयी है. आनेवाले समय में खाद्यान की बढ़नेवाली मांग को पूरा करने के लिए कृषि में नये सिरे से सुधार की आवश्यकता है.

एग्रोनॉमी की शाखा इसमें मददगार बन सकती है. आप अगर कृषि विस्तार के क्षेत्र में करियर बनाना चाहते हैं, तो एग्रोनॉमी के साथ आगे बढ़ सकते है. तो आइए आगे जानते है कि एग्रोनॉमी क्या है.

एग्रोनॉमी क्या है?
एग्रोनॉमी का सामान्य अर्थ है खेतों और कृषि का प्रबंधन. एग्रोनॉमी एग्रीकल्चर साइंस की एक शाखा है, जिसमें फसलों और मिट्टी का मुख्य तौर पर अध्ययन किया जाता है. धरती पर खेती के लिए जमीन सीमित है. बढ़ती आबादी के लिए इसी सीमित जमीन से मिट्टी, भूजल या सतही जल और पारिस्थितिकी को नुकसान पहुंचाये बगैर ज्यादा-से-ज्यादा उत्पादन संभव करना एग्रोनॉमी का लक्ष्य है.

एग्रोनॉमी के जरिये खेत प्रबंधन के माध्यम से अधिकतम खाद्यान उत्पादन के तरीके खोजने की कोशिश की जाती है. एग्रोनॉमी का क्षेत्र पौधों और पर्यावरण के संबंध की बेहतर समझ पैदा करता है, जिसके माध्यम से परंपरागत कृषि पद्धतियों में सुधार करके नयी पद्धतियों का विकास किया जाता है.

एग्रोनॉमिस्ट मिट्टी की उर्वरता की फिर से बहाली, बीज, क्यारियों का निर्माण, बीज बोने का सही समय, संरक्षण के तरीके, मिट्टी की नमी का प्रबंधन और खर-पतवार एवं कीटाणुओं के नियंत्रण आदि को लेकर शोध करते है.

एग्रोनॉमी क्यों जरूरी है?
अनुमान के मुताबिक 2035 तक भारत दुनिया में सबसे अधिक आबादी वाला देश बन जायेगा और 2050 तक भारत की आबादी 1.7 से 1.8 अरब हो जायेगी. बढ़ती जनसंख्या और लोगो की आय में वृद्धि  के सम्मिलित प्रभाव से खाद्य पदार्थो की मांग तेजी से बढ़ रही है.

खासकर लाइव स्टॉक और हॉर्टिकल्चर उत्पादों की मांग. एक अनुमान के मुताबिक 2050 तक दुनिया में खाद्यान की मांग दोगुने स्तर तक बढ़ जायेगी. इंडियन काउंसिल फॉर एग्रीकल्चर रिसर्च की एक रिपोर्ट के मुताबिक 2030 तक भारत खाद्यान की अपनी मांग का सिर्फ 59 फीसदी ही पूरा कर सकेगा. इन स्थितियों को देखते हुए भारत में खाद्यान और अन्य खाद्य पदार्थो के उत्पादन में वृद्धि बेहद जरूरी है.

यह तय है कि कृषि के वर्तमान तौर-तरीकों में बदलाव किये बगैर बढ़ती मांग को पूरा करना असंभव होगा. ऐसे में खाद्यान्न उत्पादन में स्मार्ट तरीके से वृद्धि करना ही एकमात्र उपाय है. इस लक्ष्य को पूरा करने में एग्रोनॉमी हमारी मदद कर सकता है.

कोर्स के बारे में जानें
देश के कृषि विश्वविद्यालयों में बीएससी एग्रोनॉमी और एमएससी एग्रोनॉमी की पढ़ाई करायी जाती है. बीएससी एग्रोनॉमी में साइंस विषयों-फिजिक्स, केमेस्ट्री, मैथमेटिक्स या बायोलॉजी या एग्रीकल्चर साइंस से 12वीं पास छात्र प्रवेश ले सकते हैं. एग्रोनॉमी में एमएससी करने के लिए बीएससी एग्रीकल्चर साइंस या बीएससी एग्रोनॉमी होना चाहिए.

मास्टर्स इन एग्रोनॉमी का पाठ्यक्रम उन छात्रों के लिए है, जिनकी रूचि पौधों और मिट्टी में है. एमएससी एग्रोनॉमी के बाद एग्रोनॉमी से पीएचडी भी कर सकते हैं. 

प्रमुख संस्थान
  • डॉ राजेंद्र प्रसाद सेंट्रल एग्रीकल्चर यूनिवर्सिटी, पूसा.
  • बिहार एग्रीकल्चर यूनिवर्सिटी, सबौर.
  • महात्मा फुले कृषि विद्यापीठ, पूणे.
  • पंजाब एग्रीकल्चर यूनिवर्सिटी, लुधियाना.
  • तमिलनाडु एग्रीकल्चर यूनिवर्सिटी, कोयंबटूर.
  • आचार्य एनजी रंगा एग्रीकल्चर यूनिवर्सिटी, हैदराबाद.

दाखिला पायें
बीएससी एग्रोनॉमी में प्रवेश बीएससी एग्रीकल्चर साइंस में दाखिले के लिए आयोजित होनेवाली प्रवेश परीक्षाओं के जरिये मिलता है. हर साल आइसीएआर अंडर ग्रेजुएट, पोस्ट ग्रेजुएट और डॉक्टोरल प्रोग्राम के लिए एंट्रेंस एग्जाम कंडक्ट कराता है. राज्यों के कृषि विश्वविद्यालयों में एग्रीकल्चर साइंस में दाखिले के लिए भी प्रवेश परीक्षाओं का आयोजन किया जाता है. बिहार की एग्रीकल्चर यूनिवर्सिटी में बीसीइसीइ के माध्यम से प्रवेश मिलता है .

आइसीएआर-एआइइइए
देश के विभिन्न कृषि विश्वविद्यालयों में दाखिले के लिए नेशनल टेस्टिंग एजेंसी (एनटीए) हर साल ऑल इंडिया एंट्रेंस एग्जामिनेशन फॉर एडमिशन  का आयोजन करती है. परीक्षा में हिंदी और अँग्रेजी दोनों भाषाओं में प्रश्न पूछे जाते है.

अंतिम शब्द (Last word)
दोस्तों, इस लेख में एग्रोनॉमी में करियर कैसें बनाएं (How to make a Career in Agronomy), इसके बारें में जाना है. यदि आपको यह लेख अच्छा एवं उपयोगी लगे, तो इसे अपने परिचितों में साझा जरूर करे.


Search on google
How to make a Career in Agronomy.
Agronomy kya hai.
Agronomy kyu jaruri hai.
iska Course kya hai.
Esme admission kaise milta hai. 
Eska main institute konsa hai.