बारिश के मौसम का आनंद लेने के लिए कौन सी जगहें जाएं - Which places to visit to enjoy the rainy season  

बारिश के मौसम का आनंद लेने के लिए कौन सी जगहें जाएं - Which places to visit to enjoy the rainy season

महाराष्ट्र के पर्यटन स्थल कौन से हैं, (maharashtra ke paryatan sthal kaun se hai), बारिश के मौसम में परिवार के साथ कहा घूमने जाना चाहिए, बारिश के मौसम का आनंद लेने के लिए कौन सी जगहों पर जाएँ।

Which places to visit to enjoy the rainy season

महाराष्ट्र के पर्यटन स्थलों की जानकारी 

नमस्कार दोस्तों, आप सब कैसे है, क्या आपने कभी बारिश का आनंद लिया है। बारिश का मौसम एक ऐसा मौसम है जो कई दिलों की नाराजगी को दूर करता है। वर्षा ऋतु के आगमन पर हर कोई झूम उठते है। दोस्तों, हम इस लेख से यह बताने की कोशिश कर रहे हैं कि बारिश के मौसम का आनंद कैसे लें। बारिश का मौसम परिवार के बीच की दुरियों को हटाने और एक-दूसरे को करीब लाने का मौसम है। यह मौसम शादीशुदा जोड़ों के लिए काफी रोमांचक साबित होता है। जिसके माध्यम से उसके पास अपने नवविवाहित जीवन की सभी खुशियों को प्राप्त करने का साधन होता है।

दोस्तों, इस पूरे मौसम में, प्रकृति ने हरियाली के पंख फैलाए हैं, हम सभी के आगमन की प्रतीक्षा कर रही हैं। बारिश का मौसम पिकनिक के लिए उपयुक्त समय है। दोस्तों, अगर आपको बारिश में घूमने का मन है, तो ऐसी जगह पर जाएं जहां आप अपने परिवार के साथ कुछ पल बिता सकें। अपने परिवार को महसूस कराएं कि आप हर समस्या में उनके साथ हैं। 

तो आइए दोस्तों, जानते हैं कि बारिश के मौसम में परिवार के साथ किन जगहों पर घूमने जाएं। हम आपको उन जगहों के बारे में बताने जा रहे हैं। दोस्तों, यह सारी जानकारी जानने के लिए कृपया इस लेख को अंत तक जरुर पढ़ें।

(1) मालशेज घाट (महाराष्ट्र)

दोस्तों, जब बारिश के मौसम में घूमने के बारे में सोचते हैं, तो सबसे पहला नाम आता है हमारी ज़ुबान पर, मालशेज़ घाट का। जैसे ही मालशेज़ घाट का नाम कानो में सुनाई आता है, आँखों के सामने मालशेज़ घाट का सुंदर दृश्य दिखाई देता है। मालशेज़ घाट महाराष्ट्र की खूबसूरत पहाड़ियों में स्थित है, जहाँ हर कोई जाने के लिए तैयार रहता है। मालशेज घाट इतना सुंदर है कि इस स्थान पर दिखने वाले सभी सुंदर दृश्य प्राकृतिक और आकर्षक हैं। यह घाट पुणे शहर के नारायण गाँव मार्ग पर स्थित है।

दोस्तों, मालशेज़ घाट समुद्र तल से 700 मीटर की ऊँचाई पर स्थित है और महाराष्ट्र के हिल स्टेशनों में से एक है। मालशेज़ घाट में घूमने के लिए कई खूबसूरत जगहें हैं जैसे पहाड़ियों से घिरी खूबसूरत वादियाँ, शिवनेरी किला और कुछ खास जगहों की ट्रैकिंग, खूबसूरत झरने और अन्य। इस जगह पर आप हवाई, रेल और सड़क मार्ग से भी जा सकते हैं। मालशेज़ घाट अपनी जलवायु, प्राकृतिक सुंदरता के लिए प्रसिद्ध है। पिकनिक मनाने के लिए, यह मुंबई-पुणे शहर का एक शानदार हिल स्टेशन है। हर साल, विदेशों से पर्यटक इस खूबसूरत जगह का आनंद लेने के लिए आते हैं।

(2) थोसेघार झरना (महाराष्ट्र)

दोस्तों, अगर आप बारिश के मौसम में घूमने जाने की योजना बना रहे हैं, तो आप झरने के शहर थोसेघार सतारा जरूर जाएं। क्या आप झरनों के शहर के बारे में जानते हैं? शहर के परिवारों और नवविवाहितों के घूमने के लिए यह एक सुंदर जगह है। थोसेघार झरना सतारा से 20 किमी की दूरी पर स्थित है। जब बारिश में यह पानी नीचे आता है, तो मानो दूध ही दूध बह रहा हो, ऐसा दिखता है। दोस्तों, ऐसा खूबसूरत नजारा देखने लायक होता है। शाम के समय, दृश्य और भी निसर्गरम्य होता है, ऐसा लगता है जैसे जलपरी नीचे उतर रही है।

दोस्तों, रात के समय झरने से आवाज़ आती है, मानो जैसे कि रात के समय, संगीत मधुर की महफिल सजी हो। झरने से इतनी सुंदर ध्वनि आती है। थोसेघार झरना महाराष्ट्र के सबसे खूबसूरत झरनों में से एक है। इस जगह पर खूबसूरत हरियाली, ऊंचे पहाड़, खूबसूरत झरने हम सभी को आकर्षित करते हैं। यहां, बारिश के मौसम में 20 से 30 मीटर के बीच झरनों की श्रृंखला होती है। थोसेघार का भोजन इतना सुंदर और स्वादिष्ट है कि यह 18 वीं शताब्दी की याद दिलाता है।

(3) भंडारदरा (महाराष्ट्र)

दोस्तों, आपने भंडारदरा का नाम तो कई बार सुना होगा, इस जगह का नाम भंडारदरा के नाम पर छुपा हुआ है, क्योंकि इस जगह पर बहुत सारे प्राकृतिक नज़ारे दिखाई देते हैं। बारिश के मौसम में इस पर्यटन स्थल को देखना नहीं भूलना चाहिए। भंडारदरा यह स्थान अहमदनगर जिले के अकोला तहसील में स्थित है। यह सुंदर दृश्य प्रवरा नदी के तट पर स्थित है। यहां झरने, जलाशयों, बांधों, मंदिरों और आदि जैसे सुंदर दृश्यों को देखने के लिए एक शानदार जगह है। यहां बारिश के मौसम के दौरान एक अद्भुत दृश्य होता है।

दोस्तों, भंडारदरा बारिश के मौसम में पिकनिक पर जाने के लिए एक खूबसूरत जगह। इस जगह के आकर्षण का केंद्र विल्सन डैम है, जिसे भंडारदरा के नाम से भी जाना जाता है। डैम के पास एक जलाशय है और उस जलाशय का नाम आर्थरे जलाशय है। यह स्थान इतना लोकप्रिय हो गया है कि किसी को प्राकृतिक वातावरण के साथ सुंदर दृश्य देखने को मिलते हैं। भंडारदरा में बारिश के मौसम के दौरान, काजवा नामक एक त्योहार मुख्य आकर्षण के रूप में मनाया जाता है। कई बॉलीवुड हस्तियां इस जगह का आनंद लेने के लिए आती हैं।

(4) रतनवाडी (महाराष्ट्र)

दोस्तों, रतनवाड़ी पौराणिक काल से जुड़े स्थानों में से एक है। यह स्थान कई ऐतिहासिक स्थानों से जुड़ा हुआ है। रतनवाड़ी यह अहमदनगर जिले में भंडारदरा के पास स्थित है। रतनवाड़ी का मुख्य आकर्षण रतनगढ़ किला, और अमृतेश्वर मंदिर है। नक्षीकाम की कलाकृति को देखने के बाद अमृतेश्वर मंदिर पौराणिक काल की याद दिलाता है। रतनगढ़ किला प्रसिद्ध ऐतिहासिक संरचना का प्रतिबिंब है। अमृतेश्वर मंदिर, और रतनगढ़ किले शास्त्र के अनुसार, यह लगभग 20 वी शताब्दी के है।

दोस्तों, रतनगढ़ किले की ऊंचाई पर चढ़कर, रतनवाड़ी सुंदर दिखता है। रतनवाड़ी में एडवेंचर कैंप भी हैं जहाँ ट्रेकिंग की जाती है। युवाओं के लिए यह जगह बहुत ही आकर्षक है। ट्रैकिंग के लिए रतनवाड़ी युवाओं की पहली पसंद है।

(5) कलसुबाई (महाराष्ट्र)

दोस्तों, महाराष्ट्र के सबसे ऊँचे पहाड़ का नाम लेंते है, तो कलसुबाई हमारे मुंह में सबसे पहले आता है। कलसुबाई पर्वत अहमदनगर जिले के अकोला गाँव में स्थित है। कलसुबाई पर्वत की ऊंचाई 1646 मीटर है और इसे महाराष्ट्र के माउंट एवरेस्ट के रूप में भी जाना जाता है। कलसुबाई पर्वत पूरे महाराष्ट्र में प्रसिद्ध है। यहाँ एक वन्यजीव अभयारण्य है और यहाँ जानवरों की एक विस्तृत विविधता देखी जाती है। कलसुबाई को इस पहाड़ के ऊपर एक हरे रंग की चादर की तरह चारों तरफ हरियाली, जंगली जानवरों और पक्षियों की आवाज जैसी एक अलग ही शक्ल मिलती है।

दोस्तों, कलसुबाई पर्वत के नामकरण के बारे में एक छोटी सी कहानी बताने जा रहे है, कलसुबाई एक महिला थी और इस महिला को ग्रामीणों द्वारा दंडित किया गया था, जिन्हें गाँव से बाहर निकाल दिया गया था, और फिर वह गाँव के पहाड़ पर रहने लगी। उस पहाड़ से गुजरने के बाद, कुछ दिनों बाद उनकी मृत्यु हो गई, और तब से उस पहाड़ का नाम कलसुबाई रखा गया। पहाड़ की चोटी पर एक मंदिर स्थापित है। मंदिर का नाम कलसुबाई माता मंदिर है। यह पूरे महाराष्ट्र में प्रमुख ट्रैकिंग स्थलों में से एक है। कलसुबाई पर्वत सह्याद्री पर्वत श्रृंखला की सबसे ऊंची चोटी के लिए प्रसिद्ध है। बारिश के मौसम में यहां आने वालों की संख्या सबसे ज्यादा होती है, क्योंकि कलसुबाई पर्वत में आपको प्रकृति का सबसे खूबसूरत नजारा देखने को मिलता है।

(6) चिखलदरा (महाराष्ट्र)

दोस्तों, चिखलदरा अपनी विशेषताओं के लिए बहुत प्रसिद्ध है। चिखलदरा महाराष्ट्र के अमरावती जिले में स्थित है। चिखलदरा हिल स्टेशन में कई जगहें हैं। चिखलदरा में मौसम हर समय एक जैसा रहता है। बारिश के मौसम के दौरान, यहाँ एक अलग दृश्य होता है, चारों ओर हरियाली, झरनों से बहता पानी, चारों ओर हरे भरे ऊँचे पहाड़ दिखाई देते हैं। चिखलदरा में सबसे दिलचस्प बात यह है कि जब पांच पहाड़ एक दूसरे से मिलते हैं, तो एक खाई बन जाती है। इस जगह को पंच-बोल भी कहा जाता है, इस नाम की खास बात यह है कि एक बार जब आप इन पहाड़ियों पर चिलायेंगे, तो आपको एक ही ध्वनि पांच बार सुनाई देगी।

दोस्तों, महाराष्ट्र का सबसे प्रसिद्ध हिल स्टेशन चिखलदरा है। भीमकुंड, देवी प्वाइंट, और गाविलगढ़ किला यहां देखने लायक है। चिखलदरा के दिलचस्प स्थान का सूर्यास्त का दृश्य, सूर्यास्त का सुंदर दृश्य प्रस्तुत करती है, जो मेलघाट की सबसे ऊंची पहाड़ी है। चिखलदरा विदर्भ के नंदनवन के नाम से भी प्रसिद्ध है।