भारतीय संस्कृति से जुड़े रहस्यमयी और अनोखे गाँवों की जानकारी - Information of mysterious and unique villages associated with Indian culture

भारतीय संस्कृति से जुड़े रहस्यमयी और अनोखे गाँवों की जानकारी - Information of mysterious and unique villages associated with Indian culture

भारत के अनोखे और रहस्यमयी गांवों का नाम क्या है, (bharat ke anokhe aur rahasyamayee gaonvon ka naam kya hai), अनोखे और रहस्यमयी गांवों की विशेषता क्या है।

Information of mysterious and unique villages associated with Indian culture

भारतीय संस्कृति से जुड़े रहस्यमयी और अनोखे गाँवों की जानकारी

नमस्कार दोस्तों, आप सब कैसे है, आज हम आपके सामने ऐसा लेख प्रस्तुत करने जा रहे हैं जो शायद आपने कभी नहीं पढा होंगा। आपने कई रहस्यमयी कहानियों के माध्यम से पढ़ा होगा, लेकिन आज हम आपको इस लेख के माध्यम से जीवित और सच्चे रहस्यमयी और अनोखे तथ्यों के बारे में बताने जा रहे हैं। दोस्तों, यह लेख भारतीय संस्कृति और सभ्यता से संबंधित है। यह संस्कृति और सभ्यता शहरों में नहीं देखी जाती है। यदि आप यह सब जानना चाहते हैं, तो इस लेख के माध्यम से उन गांवों का अनुसरण करें जिन्होंने अपनी पुरानी संस्कृति को वर्षों तक बनाए रखा है। दोस्तों, यह सब जानकारी जानने के लिए कृपया इस लेख को अंत तक जरुर पढ़ें।

दोस्तों, साहित्य, ज्ञान, एडवांस टेक्नोलॉजी के विकास में, जिसमें यह पूरा गाँव आगे है, हममें से किसी ने भी इसकी कल्पना नहीं की है। भारत में सभी समुदायों के लोग रहते हैं, कई सारे धर्म है और कई सारी भाषाएं बोली जाती हैं। देश के यह गाँव हमारे लेख में वर्णित किसी अजूबे से कम नहीं है। जहाँ एक तरफ लोग अपना कीमती सामान तिजोरी में रखते हैं और दूसरी तरफ एक गाँव ऐसा भी है जहाँ के लोगों का कीमती सामान बिना दरवाजे के घर में सुरक्षित रहता हैं। हम सांप जैसे जहरीले जीव को देखकर डरते हैं, लेकिन एक गाँव ऐसा भी है, जहां सांपों को पाला जाता है। किसी भी तहसील में इतने करोड़पति लोग नहीं हैं लेकिन यह एक ऐसा गाँव है जहाँ 50% से अधिक लोग करोड़पति हैं। देश के कई शहरों में सीसीटीवी, वाईफाई उपलब्ध नहीं हैं, लेकिन देश में एक गाँव ऐसा है, जहां 24 घंटे सीसीटीवी, वाईफाई और एटीएम उपलब्ध हैं। हम सभी जानते हैं कि अफ्रीकी लोग अफ्रीका में रहते हैं लेकिन भारत में एक गाँव है जहाँ अफ्रीकी लोग रहते हैं। तो आइये दोस्तों, जानते है भारतीय संस्कृति से जुड़े रहस्यमयी और अनोखे गाँवों की जानकारी।

(1) शनि शिंगणापुर - (महाराष्ट्र) 

दोस्तों, शनि शिंगनापुर, यह गाँव अहमदनगर जिले की नेवसे तहसील में है और घोड़े गाँव से 5 किमी दूर स्थित है। इस गाँव का प्रसिद्ध मंदिर श्री शनेश्वर देवस्थान है, जिसके कारण इस गाँव नाम शनि शिंगनापुर रखा गया है। शनि शिंगनापुर गाँव की आबादी 3 हजार के करीब है। इस गाँव की लोकप्रियता यह है कि यहां विश्व प्रसिद्ध शनि देव का मंदिर है। इस गाँव की दूसरी लोकप्रियता यह है कि यहां के घरों में दरवाजा नहीं है। इस गाँव में किसी भी घर में दरवाजा नहीं है। इस गाँव के लोगों के घरों में अलमारी, सूटकेस आदि नहीं होते हैं, वे अपना कीमती सामान बैग या डिब्बे में रखते हैं। जानवरों से बचने के लिए एक छोटा सा बांस का दरवाजा होता है।

दोस्तों, इस गाँव में आने वाले शनि देव के भक्त कभी भी अपने वाहनों को लॉक नहीं करते हैं, चाहे कितना भी बड़ा मेला क्यों न हो और इस गाँव से कोई कीमती सामान या वाहन कभी भी चोरी नहीं हुआ है। शनि शिंगनापुर में पुलिस स्टेशन नहीं है। यह एक आश्चर्य है, जो खुले सामान होने पर भी चोर चोरी नहीं करता है और यदि चोर चोरी करता है, तो वह इस गाँव के बाहर नहीं जा सकता है, क्योंकि गाँव के लोग शनि देव को पूजते हैं और शनि देव की असीम कृपा गाँव वासियों पर है। ''जय शनी देव''

(2) शेतफल सोलापुर - (महाराष्ट्र)

दोस्तों, शेतफल यह गाँव सोलापुर जिले में है, यह गाँव पुणे शहर से 200 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। हम सभी देवी देवता की पूजा करते हैं और भारतीय संस्कृति के अनुसार, पशु की पूजा भी की जाती है, जिसमें से एक कोबरा सांप भी है। शेतफल गाँव में हर घर में सांप पाले जाते हैं। यह दुनिया का एक अजूबा ही है जहाँ साँप नहीं मारे जाते, बल्कि बूढ़े और बच्चे उनके साथ खेलते हैं। जैसे सामान्य लोग अपने घर में कुत्तों, बिल्लियों आदि जैसे जानवरों को रखते हैं, वैसे ही शेतफल गाँव में सांप पाले जाते हैं।

दोस्तों, इस गाँव में साँपों की पूजा की जाती है। स्कूल, कॉलेज, बाजार हर जगह सांप घूमते रहते हैं। अब तक, ऐसी कोई घटना नहीं हुई है कि इस गाँव में सांपों ने किसी को नुकसान पहुंचाया हो। इस गाँव में, घर पक्का हो या कच्चा साँप रहने की जगह आवश्यक है।

(3) हिवरे बाजार अहमदनगर - (महाराष्ट्र)

दोस्तों, हिवरे बाज़ार यह गाँव महाराष्ट्र के अहमदनगर जिले के क्षेत्र में आता है। इस गाँव की कुल आबादी लगभग 300 परिवारों की है लेकिन यहाँ कम से कम 80% लोग करोड़पति हैं। वर्तमान में, यह राज्य का सबसे अमीर गाँव है। सूखे के कारण 1972 में गाँव की हालत दयनीय हो गई थी। जिसके कारण ग्रामीणों का पलायन शुरू हो गया था। 1990 के दशक में, इस गांव के 90% लोग गरीब थे और जल स्तर काफी नीचे आना शुरू हो गया था। इस दयनीय स्थिति को देखकर, सरपंच पोपटराव ने 1990 में एक समिति का गठन किया, जिसमें कुछ गैर सरकारी संगठनों के माध्यम से पानी की समस्याओं से निपटने के लिए काम करना शुरू किया। इस गाँव के लोगों की कड़ी मेहनत और श्रम योगदान ने जल स्तर को बढ़ाया।

दोस्तों, यह गाँव घोड़ा बाजार के लिए भी प्रसिद्ध है। ग्रामीणों ने पानी की समस्या को समझते हुए एक ऐसी फसल को चुना, जो फसल उगाने के लिए कम पानी ले और अपने निर्णय को सही साबित करे। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मन की बात में इस गाँव की प्रशंसा की और कहा कि पानी की कीमत वही जान सकता है, जिसने उसके लिए कई समस्याओं का सामना किया हो।

(4) पूंसरी - (गुजरात)

दोस्तों, पूंसरी यह गाँव गुजरात के साबरकांठा जिले में स्थित है। पूंसरी गाँव को मॉडर्न विलेज के रूप में जाना जाता है। 2011 में, इस गाँव को सर्वश्रेष्ठ गाँव का पुरस्कार दिया गया था, तब से गाँव सुर्खियों में है। इसके पीछे इस गाँव के सरपंच हिमांशु पटेल का अतुलनीय योगदान है। गुजरात का पूंसरी गाँव अपनी सुविधाओं के कारण देश के सात लाख गाँवों के लिए एक आदर्श बन गया है। जो सुविधा एक शहर में उपलब्ध नहीं है, वह सभी सुविधा इस पूंसरी गाँव में उपलब्ध है। डिजिटल स्कूल, सीसीटीवी, वाई-फाई, सामुदायिक रेडियो, गाँव की स्वच्छता, ग्राम बस सेवा और आरओ जल संयंत्रों के साथ पूंसरी गाँव शहरों से आगे निकल रहा है।

(5) जांबुर - (गुजरात)

दोस्तों, जांबुर यह गाँव गुजरात के सोमनाथ जिले में 12 किमी की दूरी पर स्थित है। इसकी खासियत यह है कि जैसे ही आप गांव में प्रवेश करते हैं, ऐसा लगता है कि अफ्रीका में आ गए है। अफ्रीकी लोगों को 200 साल पहले जूनागढ़ के नवाबों द्वारा लाया गया था। इस गांव में शेर के आतंक के कारण, नवाबों को पता चला कि अफ्रीकी लोग शेरों से डरते नहीं हैं, इसलिए उन्हें इस गांव में लाया गया है। इसलिए जांबुर गाँव दूसरे अफ्रीका जैसा दिखता है।

(6) कुलधरा - (राजस्थान) 

दोस्तों, कुलधरा यह गाँव जैसलमेर से 18 किमी की दूरी पर स्थित है। कुलधारा की कहानी लगभग 200 साल पहले शुरू हुई थी। 200 साल पहले यहां कोई खंडहर नहीं थे। यह पालीवाल ब्राह्मणों का निवास स्थान हुआ करता था। दीदी सलीम सिंह के उत्पीड़न के कारण, ब्राह्मणों के 84 गाँवों को गाँव छोड़ना पड़ा। ब्राह्मणों ने गाँव से निकलते समय इस जगह को शाप दिया था कि यह गाँव वीरान हो जाएगा और कोई भी इसमें निवास नहीं करेगा।

दोस्तों, वैज्ञानिकों द्वारा इस गाँव पर शोध किया गया है। वैज्ञानिकों द्वारा लगाई गई मशीन में ध्वनि की कुछ तरंगें दर्ज की गईं, जिससे पता चला कि आज भी इसमें कुछ शक्तियां हैं। कुलधरा गाँव में ऐसी शक्तियाँ हैं जैसे ही यहा लोग प्रवेश करते है, इस क्षेत्र का तापमान 40 डिग्री से अधिक हो जाता है। गाँव में मोबाइल फोन अपने आप बंद हो जाते हैं। शाम के समय, यह गाँव पर्यटकों से पूरी तरह से खाली हो जाता है। कोई भी रात में वहाँ जाने की हिम्मत नहीं करता है। इसीलिए दोस्तों, आज भी, कुलधरा गाँव ब्राह्मणों के क्रोध और आत्मसम्मान का प्रतीक है।

(7) कोडिन्ही - (केरल)

दोस्तों, कोडिन्ही गाँव केरल के मलप्पुरम जिले में स्थित है। इस गाँव में मुस्लिम समुदाय के लोग रहते हैं। यहां एक अनोखी प्रकृति है और यह अजीब है कि यहां हर घर में जुड़वा बच्चे पैदा होते हैं। यहां जुड़वां बच्चे होना कोई नई बात नहीं है। यह भारत में सबसे अधिक जुड़वाँ बच्चों की संख्या वाले गाँवों में से एक है। कोडिन्ही यह गाँव विश्व स्तर पर दूसरे और एशिया में पहले स्थान पर है। जहां 350 जुड़वां बच्चे देखे जाते हैं और बच्चों से लेकर 65 साल के बूढ़े भी देखे जाते हैं।

(8) मत्तुरु - (कर्नाटक)

दोस्तों, मत्तूरु यह गाँव कर्नाटक के शिवमोग्गा जिले में स्थित है। मत्तूरु गाँव में 300 परिवार रहते हैं और आपको यह जानकर आश्चर्य होगा कि गाँव के सभी लोग संस्कृत भाषा का उपयोग करते हैं। ये लोग अपनी दिनचर्या में संस्कृत भाषा ही बोलते हैं। गाँव में आने वाले पर्यटक चकित हो जाते हैं, उनके कपड़ों को देखकर चाणक्य के काल की याद दिलाते हैं। यहां उनके पास पारंपरिक कपड़े हैं। यह गाँव आधुनिक युग में एक उदाहरण बन गया है। इस क्षेत्र का प्रत्येक बच्चा संस्कृत बोलता है, और इस गाँव में अंग्रेजी भी बहुत अच्छी तरह से बोली जाती है। इस गाँव ने आधुनिकता के साथ संस्कृति के तालमेल को बनाए रखा है।

दोस्तों, छोटे बच्चों से लेकर बूढ़े भी इस संस्कृति को निभा रहे हैं। एक ऐसा गाँव जो पूरे भारत की संस्कृति को समेटे हुए है। दोस्तों, भाषा और पहनावे के साथ-साथ यहां आपको आधुनिकता का मिश्रण देखने को मिलेगा।

(9) मावलिनोंग - (मेघालय)

दोस्तों, मावलिनोंग गाँव मेघालय की राजधानी शिलांग से 90 किमी की दूरी पर स्थित है। शिलांग का यह छोटा सा गाँव अपनी सफाई के लिए जाना जाता है। मावलिनोंग गाँव की गिनती एशिया के एक स्वच्छ गाँव में होती है। 2014 की जनगणना के अनुसार, 95 परिवार यहां रहते हैं। इस गाँव में आजीविका के लिए सुपारी की खेती की जाती है। ग्रामीण खुद गाँव की सफाई करते हैं। यह किसी भी व्यवस्थापक पर निर्भर नहीं रहते है। इस गाँव में पर्यटकों के घूमने के लिए काफी जगह है। वॉटरफॉल, बार्लिंग चट्टानों, पेड़ों की जड़ों से बना एक पूल यह सब देखने लायक है। चिकित्सा सुविधाओं की कमी के कारण, यहाँ के लोगों ने गाँव को साफ रखने का फैसला किया। स्वच्छ वातावरण के कारण बीमारी दूर भागती है और गाँव उसी पदचिन्ह पर चल रहा है।