आचार संहिता का महत्त्व क्या है - What is the importance of code of conduct

आचार संहिता का महत्त्व क्या है - What is the importance of code of conduct

आचार संहिता का महत्त्व क्या है, (aachar sanhita ka mahatv kya hai), आचार संहिता क्यों लागू की जाती है, आचार संहिता के नियम क्या हैं।

 What is the importance of code of conduct

आचार संहिता की जानकारी

नमस्कार दोस्तों, कैसे हैं आप सब, आज हम आचार संहिता के बारे में जानेंगे। यह जानकारी हमारे सभी नागरिकों के लिए फायदेमंद हो सकती है। जैसे, आचार संहिता का महत्त्व। आचार संहिता में क्या होता है, कैसा रहा जाता है, और आचार संहिता में किन नियमों का पालन किया जाता है। तो आइये दोस्तों, जानते है की आचार संहिता का महत्त्व क्या है, आचार संहिता क्यों लागू की जाती है, और आचार संहिता के नियम क्या हैं।

दोस्तों, जैसे ही चुनावी पहल शुरू होती है, तब सभी नागरिकों के दिमाग में एक बात होती है, आचार संहिता। आचार संहिता शुरू हो जाएगी, लेकिन कम ही लोग जानते हैं कि आचार संहिता क्यों लागू की जाती है। हम आपको आचार संहिता की शुरुआत कब हुई यह बताएंगे। वर्ष 1960 में केरल विधानसभा चुनाव में आचार संहिता लागू की गई थी। भाषण और राजनीतिक दलों को सूचित करने के लिए आचार संहिता बनाई गई थी। लोकसभा चुनाव के वर्ष 1962 के दौरान, सभी राजनीतिक दलों और राज्य सरकार की इच्छा पर आचार संहिता को स्वीकार किया गया और अपनाया गया।

दोस्तों, चुनाव आयोग ने 1979 में आचार संहिता में कुछ बदलाव किए। सत्ता में पार्टी को विनियमित करने और चुनाव के दौरान अनुचित लाभ को रोकने के लिए एक खंड जोड़ा गया था। 2013 में, सुप्रीम कोर्ट ने चुनाव आयोग को मुखपत्र जारी किया और कहा गया कि 2014 के सभी विधानसभा चुनावों में आचार संहिता लागू हो।

आचार संहिता का महत्त्व

दोस्तों, चुनाव के समय आचार संहिता को लागू किया जाता है। चुनावी नियमों का पालन करने के लिए आचार संहिता लागू की जाती है। जैसे की, आचार संहिता में, सार्वजनिक धन का उपयोग किसी ऐसे काम में नहीं किया जाएगा जो किसी विशेष राजनीतिक दल या राजनेता को लाभ पहुंचाता हो। यदि किसी राजनीतिक दल को कोई रैली निकालनी हो या सभा भवन भरना हो, तो उन्हें पुलिस की अनुमति लेनी होगी। आचार संहिता में, सरकार के भीतर कोई भी सरकारी कार्य नहीं किया जाता है।

दोस्तों, आचार संहिता का न केवल चुनावी उम्मीदवारों बल्कि आम जनता को भी पालन करना पड़ता है। आचार संहिता में, कोई भी सरकारी वाहन, सरकारी बंगला और सरकारी विमान का उपयोग चुनाव के लिए नहीं किया जा सकता है। आचार संहिता में राजनीतिक दल किसी भी जाति या धर्म के नाम पर वोट नहीं मांग सकते है।

आचार संहिता के कुछ नियम 

रैली निकालने के नियम 

(१) रैली निकालने की अनुमति पुलिस प्रशासन से लेनी चाहिए। व्यापक रूप से निकालने का समय, रैली शुरू होने का स्थान और मार्ग बताएं।
(२) जहां ज्यादा ट्रैफिक न हो वहां रैली निकालना होंगा।
(३) चुनावी रैली को दाहिनी ओर से निकालना होगा।
(४) यदि एक ही दिन दो राजनीतिक दलों की रैली एक ही मार्ग पर हो, तो पुलिस प्रशासन को पहले से बताएं।
(५) रैली में ऐसा कोई सामान इस्तेमाल न करें, जिससे दंगा होने का डर हो।
(६) रैली निकालते समय पार्टी के नारे लगाए, यह नहीं कि किसी ने धर्म के बारे में गलत बोले।

बैठक के नियम

(१) राजनीतिक बैठक के लिए जगह और समय के बारे में पुलिस प्रशासन को बताएं।
(२) बैठक के स्थान पर लाउडस्पीकर की अनुमति लेना अनिवार्य है।
(३) बैठक के आयोजक में, यदि कोई व्यक्ति रुकावट और असुविधा पैदा कर रहा है, तो उसके लिए पुलिस की मदद लें।

सामान्य नियम 

(१) किसी भी पार्टी को किसी भी जाति और धर्म के मतभेद से नफरत नहीं करनी चाहिए। 
(२) राजनीतिक दलों के महत्वपूर्ण कार्यक्रम और नीतियां व्यक्तिगत नहीं होने चाहिए।
(३) चुनाव प्रचार के लिए धार्मिक स्थान का उपयोग न करें।
(४) किसी भी दल की बैठक और रैली में बाधा नहीं डालनी चाहिए।

मतदान से संबंधित नियम

(१) पार्टी के कार्यकर्ताओं को एक पहचान पत्र बनाकर दें।
(२) मतदान के दिन और उसके 24 घंटे पहले किसी भी तरह की शराब का वितरण नहीं किया जाना चाहिए।
(३) मतदान स्थल के पास शिविर में भीड़ न लगने दें।
(४) मतदान के दिन वाहन चालक से वाहन का परमिट प्राप्त करें।
(५) शिविर साधारण होना चाहिए। 
(६) मतदान के दिन दी गई पर्ची पर किसी भी पार्टी का चिन्ह और नाम नहीं होना चाहिए।

चुनाव संबंधी सरकारी अधिकारियों के लिए नियम

(१) यदि कोई मंत्री अपने निजी आवास में रुकता है और वह किसी सरकारी अधिकारी को फोन करके बुलाता है, तो वहा नहीं जाना चाहिए।
(२) चुनाव संबंधी किसी भी काम के लिए राजनीतिक मंत्री के साथ बाहर न जाएं।
(३) ड्यूटी करने वाले अधिकारी को छोड़कर किसी भी राजनीतिक पार्टी की सभा या रैली में न जाएं।
(४) किसी भी राजनीतिक दल के साथ भेदभाव न करें।

राजनीतिक दल के लिए नियम

(१) रेस्ट हाउस, पोस्ट ऑफिस या सरकारी आवास पर कोई एकाधिकार नहीं है।
(२) राजनीतिक पार्टी के काम में सरकारी मशीनरी और कर्मचारियों का उपयोग न करें।
(३) कैबिनेट मंत्री की बैठक न भरवाये।
(४) हेलीपैड को अधिकारों से वंचित नहीं किया जाना चाहिए। 
(५) चुनावी गतिविधियों में शिकायत का मौका न दें।
(६) सर्किट हाउस में होने पर मंत्रियों की आधिकारिक यात्राओं का संरक्षण किया जायें।


अंतिम शब्द 

दोस्तों, इस लेख में हमने, ''आचार संहिता का महत्त्व क्या है - What is the importance of code of conduct'' इसके बारे में जानकारी दी है. हमें पुरी उम्मीद है की यह लेख बहुत से लोगे के लिए उपयोगी साबित होगा. इसके अलावा यदि किसी का इस लेख से सबंधित कोई भी सुझाव या सवाल है तो वे हमें कमेंट करके पूछ सकते है.