एटीएम कार्ड क्लोनिंग से बचने के तरीके - Ways to avoid ATM card cloning

एटीएम कार्ड क्लोनिंग से बचने के तरीके - Ways to avoid ATM card cloning

एटीएम कार्ड क्लोनिंग कैसे होता है, (ATM card cloning kaise hota hai), एटीएम कार्ड क्लोनिंग से बचने के लिए क्या ध्यान रखना होगा।

Ways to avoid ATM card cloning

एटीएम कार्ड क्लोनिंग की जानकारी

नमस्कार दोस्तों, आप सब कैसे है आज इस लेख में हम एटीएम क्लोनिंग से बचने के तरीकों के बारे में जानेंगे। एटीएम क्लोनिंग कार्ड क्या है और कैसे करते हैं। एटीएम कार्ड क्लोनिंग से बचने के लिए किन तरीकों का इस्तेमाल करना चाहिए। इन सभी जानकारियों के लिए दोस्तों, इस लेख को अंत तक जरुर पढ़ें।

दोस्तों, आजकल बाजार में ATM कार्ड क्लोन के नाम की चर्चा हो रही है। फिर भी लोगों को कार्ड क्लोन की जानकारी नहीं है। एटीएम कार्ड क्लोनिंग एक धोखा है जो कार्ड धारकों के डुप्लिकेट कार्ड बनाते है और कार्ड को क्लोन करते है। एटीएम कार्ड क्लोनिंग के कारण लोगों को लाखों रुपयों का नुकसान हुआ है। अगर आप एटीएम मशीन से पैसे निकाल रहे हैं, और अगर आपकों कोई लेन-देन की जरूरत है, तो आप अपने एटीएम कार्ड का इस्तेमाल सावधानी से करें। तो आइये दोस्तों, जानते है की एटीएम कार्ड क्लोनिंग कैसे होता है, और एटीएम कार्ड क्लोनिंग से बचने के लिए क्या ध्यान रखना होगा।

एटीएम कार्ड क्लोनिंग कैसे होता है

दोस्तों, ATM कार्ड की क्लोनिंग करने वाला व्यक्ति कार्ड धारक की सभी जानकारी जैसे कार्ड धारक का नाम, कार्ड नंबर, पिन नंबर और डुप्लीकेट कार्ड में एक्सपायरी डेट जमा करता है। जैसे ही आप (schemer) मशीन में कार्ड स्वाइप करते हैं, तो आपके कार्ड की सारी जानकारी इस मशीन में कॉपी हो जाती है।

दोस्तों, एटीएम कार्ड को क्लोन करने के लिए एक स्कैनिंग स्लॉट वाली डिवाइस का उपयोग किया जाता है। कई ठग लोग हैं जो इस उपकरण के माध्यम से कार्ड स्वाइप करते हैं। यह मशीन एक स्वाइप मशीन की तरह दिखती है जिसका इस्तेमाल पेट्रोल पंप और कई अन्य दुकानों में किया जाता है। इस मशीन में एक सॉफ्टवेयर है जो 3 हजार से अधिक कार्ड की जानकारी संग्रहीत कर सकता है। एटीएम कार्ड की जानकारी को कंप्यूटर के माध्यम से, कार्ड धारक की सारी जानकारी खाली कार्ड में डाली जाती है, इस प्रकार एटीएम कार्ड क्लोनिंग किया जाता है।

एटीएम मशीन से पैसे सावधानी से निकाले

दोस्तों, डिवाइस को एटीएम मशीन के कीपैड पर मेट की तरह लगाया जाता है और बटन के किनारे कैमरा लगाया जाता है जहां पिन कोड और कार्ड स्वाइप किया जाता है। जैसे ही कार्डधारक कार्ड स्वाइप करता है और पिन कोड डालता है, तो सारी जानकारी उस डिवाइस में चली जाती है। इसलिए जिस एटीएम में हमेशा गार्ड होते हैं, वहां से पैसे निकाल लें। और दूसरों को अपने एटीएम का उपयोग करने की अनुमति न दें।

एटीएम कार्ड क्लोनिंग से बचने के तरीके

(१) एटीएम कार्ड क्लोनिंग से बचने के लिए EMV चिप-आधारित कार्ड का उपयोग किया जाना चाहिए। इस कार्ड में माइक्रोचिप्स होते हैं।
(२) एटीएम से राशि निकालने से पहले, देखें कि स्किमर तो नहीं लगा है।
(३) होटल और पेट्रोल पंप पर एटीएम कार्ड स्वाइप करते समय, स्वाइप मशीन को ठीक से जांच लें। यदि मशीन अन्य मशीन की तुलना में भारी है, तो एटीएम कार्ड को स्वाइप न करें।
(४) वर्तमान समय में, डेबिट कार्ड का पिन बदलना आवश्यक है। यह आपको धोखेबाजों के जाल में फंसने से बचा सकता है।
(५) यदि आपका एटीएम कार्ड क्लोन किया गया है, तो आपको यह जानने के लिए मासिक स्टेटमेंट जानना होगा कि एटीएम कार्ड क्लोन किया गया है या नहीं।
(६) एटीएम मशीन में पासवर्ड डालने से पहले कीपैड की जाँच करें।