स्क्रब टाइफस बीमारी के लिए हमें क्या उपचार करना चाहिए - What should we treat for scrub typhus disease

स्क्रब टाइफस बीमारी के लिए हमें क्या उपचार करना चाहिए - What should we treat for scrub typhus disease

स्क्रब टाइफस बीमारी कैसे होती है, (scrub typhus bimari kaise hoti hai), स्क्रब टाइफस बीमारी के लिए हमें क्या उपचार करना चाहिए, स्क्रब टाइफस बीमारी की पहचान क्या है।

What should we treat for scrub typhus disease

स्क्रब टाइफस बीमारी से बचने के उपाय और महत्वपूर्ण जानकारी

नमस्कार दोस्तों, कैसे हो आप लोग, मैंने आप सभी के लिए कई अच्छे लेख लिखे हैं, जो आप सभी के लिए बहुत ही फायदेमंद साबित हुए है। इस बार मैं आप सभी के लिए एक बहुत ही महत्वपूर्ण लेख लिख रहा हूँ, जो हम सभी के लिए बहुत महत्वपूर्ण है। दोस्तों, आप स्क्रब टाइफस बीमारी के बारे में जानते होंगे, यह एक खतरनाक बीमारी है। लेकिन हम सभी नहीं जानते कि इससे कैसे बचे और क्या है इससे बचने के उपाय। तो आइये दोस्तों, जानते हैं कि इस बीमारी से कैसे बचा जाए और बचने के क्या उपाय करें।

स्क्रब टाइफस बीमारी क्या है

दोस्तों, स्क्रब टाइफस बीमारी यह ओरिएंटा सुसुगुमाशी के बैक्टीरिया के कारण होता है। यह बीमारी खेती करने वाले व्यक्ति को होने की अधिक संभावना रहती है। यह बीमारी घास में रहने वाले पिस्सू से होती है। यह पिस्सू जब किसी व्यक्ति के किसी हिस्से को काटता है, तो उस व्यक्ति के शरीर में अपनी लार छोड़ता है। स्क्रब टाइफस बीमारी इस तरह फैलती है। इस बीमारी के मरीज खेडे गाँव में ज्यादा मिलते रहते हैं।

स्क्रब टाइफस बीमारी के प्रकार

दोस्तों, हम सभी नहीं जानते हैं कि स्क्रब टाइफस बीमारी कैसे होती है और इसके प्रकार क्या होते है। स्क्रब टाइफस बीमारी के मुख्य प्रकार हैं सिरदर्द, बुखार, बदनदर्द, स्किन रैश होना, चक्कर आना और स्किन पर चट्टे। यदि किसी मरीज में ये सभी चीजें दिखाई देती हैं, तो समझ लें कि स्क्रब टाइफस बीमारी से पीड़ित है। अगर हम स्क्रब टाइफस बीमारी के मरीज का समय पर इलाज नहीं करते हैं, तो मरीज की हालत और खराब हो जाएगी और वह मर भी सकता है।

स्क्रब टाइफस बीमारी की पहचान क्या है

दोस्तों, अगर कोई मरीज स्क्रब टाइफस बीमारी से पीड़ित है, तो हमें उसकी पहचान होनी चाहिए ताकि हम उस मरीज का सही समय पर इलाज कर सकें। स्क्रब टाइफस बीमारी की पहचान यह है कि ओरिएंटा सुसुगुमाशी नामक कीड़ा हमारे शरीर के किसी भी हिस्से में काटता है। तो वह व्यक्ति के शरीर में अपनी मुंह की लार छोड़ता है और उस लार को खून में शामिल करता है, जिस स्थान पर यह कीड़ा काटता है, उसके किनारे लाल रंग के चट्टे दिखाई देने लगते हैं। यह स्क्रब टाइफस बीमारी की पहचान है।

स्क्रब टाइफस बीमारी का उपचार

दोस्तों, बहुत से लोग स्क्रब टाइफस बीमारी के उपचार को नहीं जानते हैं, जो आज मैं आप सभी को बताऊंगा। दोस्तों, इस बीमारी के लिए हमें पानी के साथ सबसे ज्यादा ''डॉक्सीसाइक्लिन'' दवा लेनी चाहिए। अगर हम इस दवा को लेते हैं, तो पेट में होने वाली परेशानी से राहत पाने के लिए यह दवा बहुत फायदेमंद है। गर्भवती महिला को यह बीमारी नहीं होनी चाहिए, यदि हो गई तो गर्भवती महिलाओ को ''एज़िथ्रोमाइसिन'' जा सकती है। दोस्तों, अगर हम एंटीबायोटिक उपचार लेते हैं, तो हम स्क्रब टाइफस बीमारी के मरीज का इलाज कर सकते हैं।

स्क्रब टाइफस बीमारी से कैसे दूर रहें 

दोस्तों, हम सभी नहीं जानते कि स्क्रब टाइफस बीमारी से कैसे दूर रहें। इसलिए स्क्रब टाइफस बीमारी से दूर रहने के लिए हमें सबसे पहले झाडी झुड़पी में नहीं जाना चाहिए, पालतू जानवरों की अच्छी देखभाल करना चाहिए ताकि पालतू जानवरों में कोई पिस्सू या जंतु न हो।