वास्तु के अनुसार, घर का निर्माण कैसे करें - according to vastu, how to build a house

वास्तु के अनुसार, घर का निर्माण कैसे करें - According to Vastu, how to build a house

वास्तु के अनुसार अपने घर का निर्माण कैसे करें, (vaastu ke anusaar apane ghar ka nirmaan kaise karen), वास्तु के अनुसार, घर बनाने के बाद किन चीजों को कहा रखना चाहिए, वास्तु के अनुसार अपने लिए घर कैसे चुनें।

 according to vastu, how to build a house

हेलो दोस्तों कैसे हैं आप सभी। आप सभी ठीक होंगे क्योंकि हम आपके स्वास्थ्य, आपके घर के वास्तु और स्कूल आदि इन सभी चीजों के बारे में जानकारी लाते हैं। यह सभी जानकारी आपके लिए बहुत उपयोगी है,
और आपके परिवार और दोस्तों के लिए भी बहुत फायदेमंद है। इस बार हम जानकारी लाये हैं, कि वास्तु के अनुसार अपना घर कैसे बनाया जाए।

वास्तु के अनुसार अपना घर

आप सभी जानते हैं, कि वास्तु के अनुसार घर बनाना बहुत जरूरी है। अगर हम वास्तु के अनुसार घर का निर्माण नहीं करते हैं, तो हमारे घर में वास्तु दोष हो सकता है। यह हमारे घर में कई समस्याओं का कारण बन सकता है। मानसिक और आर्थिक परिस्थिति जैसी समस्या आ सकती है, जो हमारे परिवार को बहुत परेशान करती है। घर खरीदते समय हमें वास्तु के अनुसार देखना चाहिए।

घर के सभी कोने सही होने चाहिए, कोई भी कोने कहीं से भी कटा हुआ नहीं होना चाहिए। यदि कोने को कहीं से काट दिया जाता है, तो यह हमारे घर में समस्याओं का कारण बनता है। मानसिक और आर्थिक समस्याओं के कारण, हमारा मन किसी भी काम में नहीं लगता है। हम अपने घर में सीढ़ियाँ बनाते हैं लेकिन कोई नहीं जानता कि हमें अपने घर में सीढ़ियाँ कैसे बनानी चाहिए। घर में सीढ़ियां हमेशा घड़ी की दिशा में घूमनी चाहिए, अगर हम ऐसी सीढ़ियां बनाते हैं तो हमारा समय अच्छा गुजरता है। घर में कोई भी समस्या नहीं आती है, और सीढ़ियों को हमेशा पश्चिम और दक्षिण दिशा में बनाया जाना चाहिए।

रसोई किस दिशा में होनी है

दोस्तों, हम घर बनाते हैं लेकिन रसोई हमारे लिए बहुत महत्वपूर्ण है, क्योंकि वह हमारे घर में शांति बनाए रखता है। अगर रसोई सही दिशा और सही जगह बन जाए, तो कोई समस्या नहीं आती है। हमें अपने घर की रसोई को उत्तर-पश्चिम या दक्षिण-पूर्व दिशा में रखना चाहिए। यदि हम अपनी रसोई का निर्माण सही दिशा में करते हैं, तो यह हमारे घर में सुख और शांति बनाए रखती है।

मास्टर बेडरूम की दिशा

हम अपने घर में मास्टर बेडरूम बनाते हैं, लेकिन हम यह नहीं जानते हैं कि वास्तु के अनुसार बेडरूम की दिशा कोणती सही हैं, और आपको अपना बेडरूम कहां बनाना चाहिए। मास्टर बेडरूम हमेशा दक्षिण-पश्चिम दिशा में होना चाहिए। यदि हम घर खरीदते हैं, तो उस घर की दिशा की जांच करनी चाहिए कि, वह घर वास्तु के अनुसार बना है या नहीं। घर लेते समय घर की दिशा दक्षिण-पूर्व होनी चाहिए।

टॉयलेट की दिशा 

घर बनाते समय हम अपने घर में टॉयलेट-बाथरूम बनाते हैं, और इन दोनों चीजों का रहना अनिवार्य है।
अगर टॉयलेट-बाथरूम की दिशा सही नहीं है, तो हमारे घर में पैसे की कमी होती है। यह हमारे घर में मानसिक और आर्थिक परेशानी का कारण बनता है। दोस्तों, आप सभी के घर में उत्तर-पश्चिम दिशा में टॉयलेट होना चाहिए।

वास्तु दोषों का उपाय

दोस्तों, आप जानते हैं कि जब हम घर बनाते हैं, तो बिजली के तार हमारे घर के ऊपर से जाते हैं। दोस्तों, बहुत से लोग यह नहीं जानते हैं, कि बिजली के तार घर के ऊपर से जाने से हमारे घर में वास्तु दोष और नकारात्मक ऊर्जा आ सकते है। उस दोष को भी रोका जाता है, मित्रों। हमें तार के प्रभावित क्षेत्र के कोने से एक प्लास्टिक पाइप डालना चाहिए, जो उस पाइप में चुना लगा होना चाहिए। दोनों तरफ से तीन फुट का पाइप निकलना चाहिए। बिजली के तारों में से छत के ऊपर निकलने वाली नकारात्मक ऊर्जा आपके घर में नहीं आएगी।

दोस्तों, कभी-कभी हमसे ऐसी गलती होती है, कि हमारे परिवार को भुगतान करना पड़ता है। जैसे टॉयलेट - बाथरूम, सीढ़ियाँ और किचन, इन सभी चीजों को हम गलत दिशा में बनाते हैं। इससे हमारे घर में नकारात्म्क ऊर्जा आती है। तो इसके लिए हम अपने घर की सभी चीजों को तोड़ देते हैं और उन्हें बदल देते हैं, जिसकी वजह से हमें पैसे भी गंवाने पड़ते हैं। इन सभी गंभीर समस्याओं के लिए, हमें अपने घर की चीजे तोड़ने और एक नई घर की संरचना को तयार करने से बचना होगा, और कुछ गंभीर दोषों के लिए हमें क्रिस्टल पिरामिड का उपयोग करना चाहिए, इससे हमारे घर के दोष दूर होंगे।

घर खरीदने के बाद आप कोणते दोष ठीक कर सकते हैं

१. घर की पेंटिंग और फर्श को बदल सकते हैं
२. टॉयलेट और बेसिन की दिशा बदलना
३. खाना पकाने की दिशा बदल सकते हैं
४. पूजा घर को सही दिशा में रखें
५. फर्नीचर को सही दिशा में ले जाना